राजधानी में कोरोना की रेंडम चैकिंग के नाम पर वाहन चालकों को रोक-रोककर सैंपल लिए जा रहे हैं। स्वास्थ्य कर्मचारी पुलिस के साथ सड़क पर खड़े होकर वाहन चालकों के सैंपल ले रहे हैं। अगर कोई सैंपल नहीं भी देना चाहता तो भी उससे जबरदस्ती कर सैंपल लिए जा रहे हैं। रविवार को करीब 100 से अधिक सैंपल लिए गए।

स्वास्थ्य कर्मचारियों की मोबाइल टीमें रेंडम सैंपल इसलिए ले रही हैं ताकि पता चल सके कि संबंधित क्षेत्र में क्या स्थिति है। ऐसे लोगों पर ज्यादा फोकस है, जिनका मूवमेंट शहर के विभिन्न क्षेत्रों में होता है और जाे लगातार दूसरों के संपर्क में आते हैं। इनमें डिलीवरी ब्वॉय जैसे अन्य लोग शामिल हैं।
रविवार को 12 नंबर की मुख्य सड़क पर पुलिस वाहन चालकों को रोक रही थी। इनमें ऐसे लोगों को रोका जा रहा था, जो मास्क नहीं लगाए थे। इन्हीं के साथ मास्क लगाने वालों के भी जबरदस्ती सैंपल लिए जा रहे हैं। जिला प्रशासन के अधिकारियों ने कहा कि कहीं-कहीं पर रेंडम सैंपल लिए जा रहे हैं। इसमें कोई बुराई नहीं है। लोगों को इसमें सहयोग करना चाहिए।
सामने आती है हकीकत… इंदौर के वरिष्ठ डॉ. वीपी पांडेय ने कहा कि रेंडम सैंपलिंग में कोई समस्या नहीं है। इससे वास्तविक स्थिति भी सामने आती है कि संक्रमण की क्या दर है।
^विभिन्न क्षेत्रों में रेंडम सैंपल लिए जाते हैंं। एसडीएम भी अपने क्षेत्रों में सैंपलिंग करा रहे हैं। यह पता लगाने में मदद मिलती है कि कोई सुपर स्प्रेडर तो नहीं है।

  • अविनाश लवानिया, कलेक्टर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *