राजधानी भोपाल की मस्जिदों में शादी कार्यक्रम के दौरान होने वाली वीडियो और फोटोग्राफी पर रोक लग सकती है। इस संबंध में मंगलवार को आल मंसूरी समाज सोसाइटी ने काजी सैयद मुश्ताक अली नदवी से मिलकर एक ज्ञापन भी दिया। युवाओं ने कहा कि राजधानी की मस्जिदों में रोजाना सुन्नत के मुताबिक निकाह करवाएं जाते हैं।

मगर उस दौरान वीडियो और फोटोग्राफी होने से नेक काम में बेअदबी हो रही है। हाल ही में शहर की ताजुल मस्जिद में हुए निकाह के दौरान दूल्हा का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिससे पूरी कौम की बदनामी हुई प्रदेश अध्यक्ष जावेद मंसूरी ने कहा कि राजधानी की कई मस्जिदों में रोजाना निकाह कराए जाते हैं। लेकिन उस पाक काम में भी शैतानी काम हावी होते जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि नौजवान सारे मसले भुलाकर अब निकाह के दौरान भी फोटो शूट और वीडियोग्राफी करवा रहे हैं। इससे गलत संदेश जा रहा हैं। लोगो के ऊपर बड़ो और उलेमाओं की समझाइश का भी कोई असर नही हो रहा हैं। उन्होंने ज्ञापन के माध्यम से शहर काजी को निकाह के दौरान शहर की मस्जिदों में फोटो शूट और वीडियो ग्राफी पर सख्त पाबंदी लगाई जाने की मांग की है।

शहर काजी सैयद मुश्ताक अली नदवी ने कहा कि नौजवानों ने बुराई को महसूस किया और उसके लिए वे चाहते हैं कि इसे खत्म किया जाए। हम पूरी कोशिश करेंगे। इसके लिए प्रयास किए जाएंगे। हमारी कौम बुराई को खत्म करने वाली और अच्छाई को फैलाने वाली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *