कोरोना वैक्सीन को लेकर अब ये कहा जाने लगा है कि कुछ ही महीनों में वैक्सीन बाजार में आ सकती है. ऐसे में ब्रिटेन की नेशनल क्राइम एजेंसी ने चेतावनी जारी की है कि बाजार में फर्जी कोरोना वैक्सीन भी आ सकती है. ऐसे में सतर्क रहने की जरूरत है.
दुनियाभर में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच अब कोरोना वैक्सीन के भी जल्द ही बाजार में आने की उम्मीद जताई जा रही है. वैज्ञानिकों का मानना है कि अगले कुछ ही महीनों में कई देशों में कोरोना वैक्सीन आ जाएगी.
ब्रिटेन की नेशनल क्राइम एजेंसी से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि नकली कोरोना वैक्सीन को बाजार में आने से रोकने के लिए हमारी टीम ने अभी से प्रयास शुरू कर दिया है. उन्होंने कहा कि हमने देखा था कि कोरोना महामारी के दौरान अपराधियों ने नकली मास्क, सैटेनाइजर और पीपीई किट तक बना ली थी. ऐसे में नकली कोरोना वैक्सीन भी बाजार में उतारी जा सकती है.
ndependent.co.uk की रिपोर्ट के मुताबिक इकोनॉमिक क्राइम सेंटर के डायरेक्टर जनरल ग्रेएम बिगर के मुताबिक जैसे ही कोई कंपनी कोरोना वैक्सीन को बाजार में उतारने का ऐलान करेगी वैसे ही नकली वैक्सीन बनाने वाले सक्रिय हो जाएंगे. इन लोगों को किसी की जान की परवाह नहीं होती ये केवल पैसा कमाना जानते हैं.
कोरोना ने क्योंकि दुनियाभर के देशों में हमला किया है इसलिए फर्जी टेस्ट, दवाओं, मास्क और पीपीटी किट का बाजार भी उतना ही बड़ा हो गया है. ब्रिटेन के अधिकारी ने बताया कि हैकर्स ने कोरोना वैक्सीन से जुड़ी जानकारी भी चुराने की कोशिश की थी. ऐसे में जब वैक्सीन बाजार में उपलब्ध होगी तो असली जैसी दिखने वाली नकली वैक्सीन बनाना उनके लिए ज्यादा बड़ी बात नहीं होगी.
बता दें​ कि फाइजर और ऑक्सफोर्ड की तरह ही कई बड़ी कंपनियों ने दावा किया है कि वह कुछ ही महीनों में कोरोना वैक्सीन बनाने में कामयाबी हासिल कर लेंगे. ऐसे में उम्मीद है कि अप्रैल तक कोरोना वैक्सीन बाजार में होगी.फाइजर कंपनी ने हाल ही में दावा किया था कि 90 फीसदी लोगों में वैक्सीन प्रभावी पाई गई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *