शोएब के पिता का कंस्ट्रक्शन बिजनेस है और मां हाउस वाइफ हैं. शोएब ने कोटा के एलन करियर इंस्टीट्यूट से अपनी नीट की कोचिंग ली. उनके साथ मां और बहन रहती थी. बता दें, कोरोनावायरस लॉकडाउन में उन्होंने घर वापिस जाने की बजाए कोटा में रहकर तैयारी की थी.
नई दिल्ली: NEET परीक्षा 2020 में इस साल शोएब आफताब (Shoyeb Aftab) ने 720 में से 720 अंक लाकर टॉप किया है. नीट परीक्षा के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है, जब कोई उम्मीदवार पूरे मार्क्स लेकर आया हो. शोएब आफताब से NDTV ने बात की है.
शोएब ने कहा, ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी उम्मीदवार ने 720 में से 720 अंक हासिल किए हैं. इससे पहले पिछले साल राजस्थान के रहने वाले नलिन खंडेलवाल ने सबसे ज्यादा अंक स्कोर किए थे. उन्होंने कुल 720 अंकों में 701 अंक हासिल किए थे.

शोएब भविष्य में हृदय शल्य चिकित्सक (cardiac surgeon) बनना चाहते हैं. शोएब आफताब ने सफलता के लिए अपने माता-पिता को श्रेय देते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि मेडिकल प्रवेश परीक्षा में पहली रैंक हासिल करेंगे.

उन्होंने कहा, “मैं अपनी मां को सारा श्रेय देना चाहूंगा जिन्होंने मुझे डॉक्टर बनने की ख्वाहिश रखने के लिए प्रेरित किया और मेरे साथ खड़ी रहीं”. बता दें कि शोएब के पिता का कंस्ट्रक्शन बिजनेस है और मां हाउस वाइफ हैं. शोएब ने कोटा के एलन करियर इंस्टीट्यूट से अपनी नीट की कोचिंग ली. उनके साथ मां और बहन रहती थी. कोरोनावायरस लॉकडाउन में उन्होंने घर वापस जाने की बजाए कोटा में रहकर तैयारी की थी.

शोएब के परिवार में कोई डॉक्टर नहीं था, ऐसे में उन्हें उम्मीद नहीं थी कि पहली रैंक आ जाएगी. उन्होंने लॉकडाउन में घर न जाने का फैसला किया. अप्रैल 2018 में तैयारी के लिए कोटा आ गए थे, जिसके बाद से वह अभी तक घर नहीं गए हैं.

उनके पिता राउरकेला उड़ीसा में रहते हैं, उन्होंने अपने पिता से वादा किया था कि जब तक नीट क्लियर नहीं कर लेते वह घर नहीं आएंगे.

शोएब की कोशिश परीक्षा में ज्यादा से ज्यादा स्कोर करने की थी. शोएब ने कहा, कोरोना संकट में कई बार नीट की परीक्षा स्थगित हुई, जिस दौरान परीक्षा का काफी दवाब था, लेकिन उस समय भी शोएब ने शांति से काम लिया.s

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *