डॉ. गुलेरिया ने कहा कि लापरवाह युवा इस वायरस को घर ले जा रहे हैं, जिससे बुजुर्ग प्रभावित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं को लगता है कि हल्का इंफेक्शन होगा और इसके लिए कुछ सावधानी बरतने की जरूरत नहीं है। लेकिन यह धारणा न सिर्फ गलत है, बल्कि खतरनाक भी है।
आज तक की खबर के अनुसार, डॉ गुलेरिया ने दावा किया है कि कोरोना की दूसरी लहर फिर से तेज हो गई है। उन्होंने इसकी वजह कोरोना से बचाव के लिए एहतेयात बरतने में ढिलाई को बताया है। उन्होंने कहा कि मास्क लगाने में ढिलाई और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ठीक से नहीं होना इसकी प्रमुख वजह है। उन्होंने इसके लिए मौसम और प्रदूषण को भी जिम्मेदार बताया और कहा कि प्रदूषण के कारण वायरस ज्यादा देर तक हवा में रहता है। हालांकि उन्होंने तीसरी लहर से इनकार किया है।
डॉ. गुलेरिया ने कहा कि वायरस को लेकर लापरवाह युवा इस वायरस को घर ले जा रहे हैं, जिससे बुजुर्ग प्रभावित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि युवाओं को लगता है कि हल्का इंफेक्शन होगा और इसके लिए हमें कुछ सावधानी बरतने की जरूरत नहीं है। लेकिन यह धारणा न सिर्फ गलत है, बल्कि खतरनाक भी है।
एम्स के निदेशक ने यूरोप और अन्य देशों का उदाहरण देते हुए चेतावनी दी कि कोरोना वायरस अभी खत्म नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि जब तक जरूरी न हो, घर से बाहर न जाएं और मस्क जरूर लगाएं और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। डॉक्टर गुलेरिया ने चेतावनी देते हुए कहा कि कोरोना से बचाव के लिए हाथ धोना, सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क जरूरी है। अगर हम सावधानी नहीं बरतेंगे तो और भी ज्यादा मामले सामने आएंगे। उन्होंने कहा कि मामले कम हो रहे हैं। अगर दिवाली के बाद तक केस कम रहे तो पीक खत्म माना जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *