भारतीय जनता पार्टी (BJP) नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia)ने मध्य प्रदेश के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों कमलनाथ (Kamal Nath)और दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) को राज्य का ‘‘सबसे बड़ा गद्दार” करार दिया और कहा कि उन्होंने ‘‘भ्रष्ट” सरकार चलाकर वोटरों के साथ विश्वासघात किया.
सिंधिया ने सोमवार को कहा कि जब उन्‍होंने, आम लोगों की आवाज पार्टी के हर स्तर पर उठाई और समाधान नहीं निकाला गया तो वे कांग्रेस छोड़ने को मजबूर हो गए. सिंधिया ने विश्वास जताया कि तीन नवम्बर को राज्य की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (Madhya Pradesh bypolls) में बीजेपी पूरी नहीं तो अधिकांश सीटें जरूर जीतेगी.
एक इंटरव्‍यू में सिंधिया ने कहा कि जिन 28 सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं उनमें से 27 सीटों पर कांग्रेस का कब्जा था. इसलिए बीजेपीका हर हाल में फायदा ही होगा. नुकसान सिर्फ कांग्रेस का होना है. इन 28 सीटों पर उपचुनाव इसलिए हो रहे हैं क्योंकि सिंधिया समर्थक 22 कांग्रेस विधायकों ने इसी साल मार्च में पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. इस घटनाक्रम के बाद कमलनाथ की 15 महीने पुरानी सरकार अल्पमत में आ गई थी और बाद में सत्ता से उसकी विदाई हो गई. तीन और कांग्रेस विधायकों ने बाद में पार्टी से इस्तीफा दे दिया था जबकि तीन सीटें मौजूदा विधायकों के निधन से खाली हुई हैं. सिंधिया ने कहा, ‘‘कांग्रेस यदि सरकार बनाने की कल्पना भी करती है तो उसे सभी 28 की 28 सीटों पर उपचुनाव जीतना होगा. अभी हाल ही में उन्होंने अपना एक और विधायक गंवाया है. उसके विधायक राहुल लोधी बीजेपी में शामिल हो गए हैं. स्पष्ट है कि लोगों को कांग्रेस में कोई विश्वास नहीं रह गया है. न सिर्फ जमीनी स्तर पर बल्कि इसके मौजूदा विधायकों का भी अब कांग्रेस से भरोसा उठ गया है.”बीजेपी में शामिल होने के बाद राज्यसभा के निर्वाचित हुए सिंधिया ने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि किसी राज्य में एक साथ इतनी बड़ी संख्या में, लगभग 30 प्रतिशत, एक साथ पार्टी छोड़ गए हों. यह राज्य के नेतृत्व, जिसकी कमान कमलनाथ और दिग्विजय सिंह के हाथों में है, के प्रति विश्वास व आस्था के अभाव को दर्शाता है.”
उपचुनाव में प्रचार के दौरान कांग्रेस नेताओं द्वारा उन्हें ‘‘गद्दार” कहे जाने को लेकर पूछे जाने पर सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने कहा कि वह राजनीति में ऐसे शब्दों के इस्तेमाल से अमूमन परहेज करते है क्योंकि उनका मानना है कि राजनीति में एक सीमा होनी चाहिए और उसका अनुपालन होना चाहिए.उन्होंने कहा, ‘‘अगर वे वास्तव में ऐसे शब्द का इस्तेमाल कर रहे हैं तो मध्य प्रदेश में सबसे बड़े गद्दार कमलनाथ और दिग्विजय सिंह हैं. वे मध्य प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता के गद्दार हैं क्योंकि कोई भी चुनावी वादा पूरा नहीं किया गया. निजी फायदे की गतिविधियों में वे संलिप्त रहें और उन्होंने लोगों की सेवा करने की बजाय सत्ता और कुर्सी को ज्यादा तरजीह दी.” कमलनाथ द्वारा बीजेपी उम्मीदवार इमरती देवी को ‘‘आइटम” कहे जाने पर सिंधिया ने उन्हें आड़े हाथों लिया और कहा कि सार्वजनिक जीवन में काम कर रहे लोगों को मूल्यों और मयार्दाओं का पालन करना चाहिए और समाज में उदाहरण प्रस्तुत करना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *